छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ की उद्योग नीति हमने ऐसी बनाई कि एनपीए की आशंका नहीं, निवेश के लिए सबसे उपयुक्त राज्य

हमारे यहां भांजे का पैर छूते हैं क्योंकि भगवान श्रीराम हमारे भांजे हैं। हमारी परंपरा है कि जब मिलते हैं तब राम-राम कहते हैं जब विदा लेते हैं तो राम कहते हैं। श्रीराम ने अपने वनवास का सबसे ज्यादा समय छत्तीसगढ़ में गुजारा। हमने इसलिए राम वन गमन पर्यटन परिपथ विकसित किया। हम लोग पहले चरण में 9 जगहों पर इसे चिन्हित कर विकास कर रहे हैं। राम हमारी छत्तीसगढ़ी संस्कृति में बसे हैं। हमने गायों की सेवा की है। हमने 10 हजार गौठान बनाये हैं और यहां 2 रुपए किलो के हिसाब से गोबर खरीद रहे हैं। जब गोबर खरीदने जाते हैं तो गाय की सेवा भी हो जाती है।
रविवि जहां उपाधि वितरण समारोह में गया, वहां 74 प्रतिशत लड़कियां थीं-  अंशुमन चौधरी ने पूछा कि महिलाओं के लिए क्या कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कल ही मैं रविवि में उपाधि वितरण समारोह में गया था। वहां 74 प्रतिशत लड़कियां थी जिन्हें डिग्रियां बांटी गई। हर जगह महिलाएं शिक्षा में अग्रणी हैं। हमारी सरकार ने बंद हुए स्कूलों को पुनः आरंभ किया। नक्सल हिंसा की वजह से जो स्कूल बंद हुए, उन्हें हमने पुनः आरंभ किया। हमने स्वामी आत्मानंद स्कूल आरंभ किये हैं ताकि अंग्रेजी शिक्षा को भी बढ़ावा मिल सके।

Related Articles

Back to top button